ख़बरें विस्‍तार से

'आई कंजक्ट‍िवाइटिस' से सावधान, लापरवाही से जा सकती है आँख की रोशनी

Lucknow /8, | Publish Date: Jul 13 2017 4:50PM IST Views:378

बरसात के मौसम में जहां हर तरफ हरियाली छा जाती है, वहीं दूसरी तरफ आंखों में संक्रमण का खतरा भी बढ़ने लगता है। ऐसे में 'आई कंजक्ट‍िवाइटिस' नामक बीमारी के होने का खतरा बढ़ जाता है। अगर आपको आँख में चुभन, आँख से पानी निकलना, आँख का लाल होना और आंखों में जलन या खुजली की शिकायत है तो इसे हल्के में ना लें। अगर आपको इस तरह की कोई परेशानी हो रही है तो बेहतर यहीं होगा कि आप किसी डॉक्टर से संपर्क करें। 

कंजक्ट‍िवाइटिस होने का मुख्य कारण जीवाणु संक्रमण, एलर्जी, शुक्राणु संक्रमण आदि हो सकता है।  
आपको बता दें कि कंजक्ट‍िवाइटिस एक संक्रामक बीमारी है जोकि एक व्यक्त‍ि से दूसरे व्यक्त‍ि को आसानी से हो सकती है। इसलिए अगर किसी व्यक्त‍ि को ये बीमारी है तो बचाव के तौर पर आप उसकी आंखों में न देखें और न ही उसका कोई भी व्यक्तिगत सामान (रुमाल या तौलिया) का इस्तेमाल करें। अगर आप इस बीमारी से ग्रसित हैं तो धूप के चश्में का अवश्य इस्तेमाल करें ताकि दूसरों तक ये वायरस न फैल सके। 

इस बीमारी से बचाव के कुछ उपाय आपके लिए कारगर साबित हो सकते हैं जैसे कि एक साफ कपड़े को ठंडे पानी में भिगो कर आंखों पर रखना आराम दायक हो सकता है। इसी तरह आलू के टुकड़ों को आंखों पर रखने से सुकून कम होती है। इस बीमारी से बचाव में स्वच्छता मुख्य भूमिका निभाती है इसलिए अपने आस-पास सफाई का विशेष ध्यान रखे। अगर बार-बार संक्रमण हो रहा है तो ये विटामिन की कमी को दर्शाता है इसके लिए विटामिन बी और विटामिन सी युक्त फलों और सब्ज‍ियों का सेवन करना सही रहेगा। 

वैसे तो कंजक्ट‍िवाइटिस का वायरस ज्यादा नुकसानदायक नहीं होता लेकिन इस वायरस की कई प्रजातियां ऐसी भी हैं, जिनकी वजह से कार्निया पर धब्बे पड़ सकते हैं और लापरवाही बरतने पर इससे आंखों की रोशनी भी जा सकती है।


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)