ख़बरें विस्‍तार से

सरहद विवाद के चलते चीन की बढ़ी चिंता, सताने लगा व्यापार का डर..

Delhi /2, | Publish Date: Jul 7 2017 2:12PM IST Views:531

एक बार फिर सिक्किम की सरहद को लेकर भारत और चीन आमने-सामने आ गए हैं। दोनों देशों के बीच इस बढ़ते तनाव का प्रभाव आर्थिक रिश्तों पर भी पड़ने की आशंका जताई जा रही है। भारत के बड़े बाजार को देखकर चीन अब व्यापार को लेकर चिंता में लग रहा है। इसकी झलक चीन सरकार द्वारा नियंत्रित ग्लोबल टाइम्स और बाकी मीडिया की खबरों से सामने आई है। 

हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की अमेरिका फर्स्ट नीति और चीन के रिश्ते में आई बेरुखी के चलते चीन को भी एक नए और मजबूत बाजार की तलाश है और कहीं ना कहीं वह भी जानता है कि उसे भारत से बेहतर बाजार नहीं मिल सकता। विशेषज्ञों का मानना है कि अगर भारत और चीन आपस में लड़ेंगे तो इसका फायदा पश्चिमी देशों को मिलेगा। ऐसे में दोनों देशों में चल रहे आपसी तनाव को दूर करने का प्रयास करना चाहिए। 

भारत में काम कर रही चीनी कंपनियों को चेताया गया है कि सरहद पर बढ़ते तनाव के मद्देनजर भारत में चीनी वस्तुओं का बहिष्कार होने की संभावना है। चीनी मीडिया ने एक लेख में कहा है कि भारत के लोग अपने देश की संप्रभुता को लेकर बेहद संवेदनशील हैं, ऐसी स्थिति में चीनी कंपनियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल जब चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत आए थे, तब एशिया के दो महारथियों के बीच रिश्तो में भी गर्माहट आई थी। 

आपसी विश्वास के चलते 2014 की तुलना में चीन से विदेशी निवेश लगभग 6 गुना बढ़ गया। वहीं भारत के मुकाबले चीन का निर्यात भारत में काफी ज्यादा हो गया है। आंकड़ों के मुताबिक चीन और भारत के निर्यात में भारी असमानता है। यहां चीन भारत में लगभग 7 अरब डॉलर का निर्यात करता है, वहीं भारत का चीन में निर्यात महज़ 16 मिलियन डॉलर है। विदेशी निवेश की बात करें, तो चीन ने 2014 में एक बिलियन डॉलर का निवेश किया था जोकि 2015 में बढ़कर 6 मिलियन डॉलर हो गया।


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)