ख़बरें विस्‍तार से

'अनुच्छेद 35 ए' को चुनौती देना, भारतीय शक्तियों को कमजोर करना है - महबूबा मुफ्ती

Delhi /1, | Publish Date: Jul 28 2017 11:12PM IST Views:349

जम्मू कश्मीर में धारा 370 को लेकर जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने एक बड़ा अहम बयान दिया है। महबूबा ने कहा है कि, "अगर जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा न मिला होता तो आज जम्मू कश्मीर होता ही नहीं और अगर जम्मू कश्मीर को मिले विशेष दर्जे से किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ हुई तो जम्मू कश्मीर में कोई तिरंगा उठाने वाला नहीं बचेगा।" बता दें जम्मू कश्मीर में धारा 370 हटाकर विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने की आवाज अक्सर उठती रहती है। 

हमेशा भारत के साथ रहा जम्मू-कश्मीर -
सीएम मुफ्ती ने कहा है कि, "बुनियादी सवाल है कि भारत का विचार कश्मीर के विचार को कितना समायोजित करने को तैयार है? यह बुनियादी निचोड़ है।" उन्होंने याद दिलाया कि किस तरह विभाजन के दौरान मुस्लिम बाहुल्य राज्य होने के बावजूद कश्मीर ने दो राष्ट्रों के सिद्धांत और धर्म के आधार पर विभाजनकारी बंटवारे का उल्लंघन किया और हमेशा भारत के साथ रहा।

अनुच्छेद 35 ए को चुनौती देना गलत -
गंभीर मुद्दा उठाते हुए मुफ्ती ने कहा, "एक तरफ तो हम संविधान के दायरे में कश्मीर मुद्दे का समाधान करने की बात करते हैं और दूसरी तरफ हम उसका पालन नहीं करते। आखिर क्यों और कौन संविधान को चुनौती दे रहा हैं।" उन्होंने बताया कि, "मेरी पार्टी और अन्य पार्टियां तमाम जोखिमों के बावजूद भी जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज को अपने हाथों में रखती हैं। मुझे इस बात का यकीन है कि अगर 'अनुच्छेद 35 ए' से कोई छेड़छाड़ हुई तो जम्मू कश्मीर में राष्ट्रीय ध्वज थामने वाला कोई भी नहीं रह जाएगा।" मुफ़्ती का कहना है कि, "अनुच्छेद 35 ए को चुनौती देकर, आप अलगाववादियों को निशाना नहीं बना रहे हैं बल्कि आप भारतीय शक्तियों को कमजोर कर रहे हैं।

भारतीय संविधान में है विशेष प्रावधान -
महबूबा ने कहा है कि, "भारत के संविधान में जम्मू कश्मीर के लिये विशेष प्रावधान हैं, दुर्भाग्य से समय के साथ-साथ कुछ ऐसा हुआ की दोनों पक्षों ने बेईमानी शुरू कर दी।" उन्होंने केंद्र और राज्य दोनों तरफ इशारा करते हुए कहा कि, "हो सकता है दोनों पक्ष लालची हो गये हों और जिसका भुगतान पिछले 70 सालों में राज्य को करना पड़ा।"


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)