ख़बरें विस्‍तार से

इसे कहते है रेशमी धागे का प्रेम, बहन ने किडनी देकर भाई को दिया नया जीवन

Lucknow /3, | Publish Date: Aug 8 2017 2:09PM IST Views:396

यूँ तो देखा जाये तो रेशम के धागे का कोई मोल नहीं लेकिन रक्षाबंधन जब एक बहन भाई को राखी बांधती है तो वह अपने भाई से आत्मीय रिश्ते भी जोड़ती है। इसी रिश्ते का उदाहरण है आगरा की एक बहन वंदना चंद्रा, वंदना चंद्रा ने अपने भाई को जीवन की डोर बांध दी। 

आगरा के रहने वाले 38 वर्षीय अधिवक्ता विवेक साराभाई किडनी में दिक्कत होने पिछले वर्ष अगस्त से डायलिसिस कराते थे लेकिन हालत बिगड़ने के चलते डॉक्टर ने बिना देर किये किडनी बदलवाने की सलाह दी। बड़ी बहन 48 वर्षीय वंदना बिना सोचे समझे भाई को किडनी देने का फैसला किया। चिकित्सकों ने आठ मार्च को किडनी ट्रांसप्लांट कर दी। अब विवेक साराभाई बिलकुल स्वस्थ है। इसे कहते है रक्षाबंधन और भाई-बहन का जीवन पर्यंत चलने वाला प्रेम। ऐसी भारतीय बहन को कोटि-कोटि प्रणाम।  


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)