ख़बरें विस्‍तार से

पनामा पेपर्स लीक मामला : पाक सुप्रीम कोर्ट ने नवाज शरीफ को अयोग्य घोषित किया

Delhi /2, | Publish Date: Jul 28 2017 12:43PM IST Views:446

आज पाकिस्‍तानी सुप्रीम कोर्ट ने पनामागेट मामले में अपना फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने पनामा पेपर लीक मामले में पीएम नवाज शरीफ को दोषी करार दिया गया है। यह केस पाकिस्‍तानी पीएम नवाज शरीफ और पाकिस्‍तान की सियासत के लिए काफी अहम था। बता दें कि इस मामले में नवाज शरीफ समेत उनके परिजनों पर काला धन छुपाने, भ्रष्‍टाचार और मनी लांड्रिंग के आरोप लगे थे।जस्टिस आसिफ सईद खोसा की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बैंच ने मामले पर फैसला सुनाया है। कोर्ट ने नवाज शरीफ के खिलाफ केस दर्ज करने का आदेश दिया है और साथ ही साथ एनएबी को छह हफ्तों के अंदर पनामागेट मामलें में जांच पूरी करने के भी आदेश दिए गए हैं। दूसरी तरफ सेना के एक बार फिर मजबूत स्थिति में आने के आसार लगाए जा रहे है। 

21 जुलाई को फैसला रखा था सुरक्षित -
इससे पहले 21 जुलाई को पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने पनामा पेपर्स मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था। जस्टिस एजाज अफजल समेत तीन न्यायाधीशों की पीठ में जस्टिस शेख अजमत सईद और जस्टिस एजाजुल अहसन शामिल हैं। जस्टिस सईद ने कहा कि, "अदालत अपना फैसला सुनाते हुए किसी कानून से विचलित नहीं होगी और हम याचिकाकर्ताओं और प्रतिवादियों के मौलिक अधिकारों के प्रति पूर्णतया सचेत हैं।" 

दस खंडों वाली रिपोर्ट -
सुप्रीम कोर्ट ने दस खंडों वाली रिपोर्ट का अंतिम हिस्सा भी खोला, जिसे संयुक्त जांच दल (जेआईटी) ने दाखिल किया था। उच्चतम न्यायालय ने शरीफ और उनके परिवार पर लगे धनशोधन के आरोपों की जांच के लिए जेआईटी गठित की थी। जेआईटी ने कहा था कि, "रिपोर्ट का दसवां खंड गोपनीय रखा जाए क्योंकि इसमें दूसरे देशों के साथ पत्राचार का ब्‍यौरा भी है।" लेकिन शरीफ के वकीलों की टीम ने इस पर एतराज जताया था। अदालत ने अधिकारियों को आदेश दिया कि खंड की एक प्रति शरीफ के वकील ख्वाजा हारिस को भी सौंपी जाए। 

बच निकले नवाज़ के भाई -
हालांकि, नवाज़ के भाई शाहबाज़ शरीफ़ इस सारे मामले में साफ़ तौर पर बच निकले हैं। इस बात से आम लोगों को शायद हैरानी हो लेकिन मुस्लिम लीग में ये आम धारणा है कि शाहबाज़ शरीफ़ का पाकिस्तानी सत्तातंत्र के साथ अपने बड़े भाई की तुलना में बेहतर संबंध है। मुस्लिम लीग के नेताओं में ये बात आम है कि परवेज़ मुशर्रफ़ ने शाहबाज़ शरीफ़ को प्रधानमंत्री बनाने की पेशकश की थी, उसके बाद राहील शरीफ़ से भी उनकी ‘बातचीत’ चलती रही और अब जनरल क़मर जावेद बाजवा भी उनके सीधे संपर्क में हैं। 


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)