ख़बरें विस्‍तार से

14वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान शुरू, रामनाथ कोविंद दौड़ में सबसे आगे

Delhi /1, | Publish Date: Jul 16 2017 10:49PM IST Views:315

देश में 14वें राष्ट्रपति पद के लिए मतदान शुरू हो गया है। आज सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच राष्ट्रपति निर्वाचन के लिए वोट डाले जाएंगे। संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में मतदान को लेकर तैयारी पूरी जा चुकी है। इस चुनाव में बीजेपी की तरफ से राम नाथ कोविंद और विपक्ष से मीरा कुमार उम्मीदवार के रूप में आमने-सामने हैं। आकड़ों के मुताबिक कोविंद के पास करीब 62 फीसदी वोट हैं, जबकि मीरा कुमार के पास सिर्फ 27 फीसदी वोट ही दिख रहे है, तो इस हिसाब से इस चुनाव में कोविंद का पलड़ा भारी है। बता दें कि वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है, जिसके अगले दिन (25 जुलाई) नए राष्ट्रपति को पद ग्रहण करना है।

आकड़ों की बात करे तो राष्ट्रपति चुनाव में हर सांसद के वोट का वैल्यू 708 है, जबकि विधायकों के वोटों का मूल्य उनके राज्यों की आबादी के अनुसार है। जैसेकि उत्तर प्रदेश के एक विधायक के वोट का वैल्यू 208, जबकि अरुणाचल जैसे कम आबादी वाले राज्य के विधायक के वोट का मूल्य 8 बैठता है। ऐसे में कोविंद को निर्वाचक मंडल के कुल 10,98,903 मतों में से 63 फीसदी से भी ज्यादा मत मिलने की संभावना जताई जा रही है। 

ताजा जानकारी के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना वोट डाल दिया है। आपको बता दें कि सीएम योगी ने इस चुनाव में एक सांसद के तौर पर अपना वोट डाला है। वह गोरखपुर से बीजेपी के सांसद है। दिल्ली से 5 विधायक इस चुनाव में वोट अपना देंगे जबकि 55 सांसद अपना वोट नहीं डालेंगे। जानकारी के लिए बता दें कि संसद भवन के कमरे नंबर 16 को पोलिंग रुम बनाया गया है। 

संसद का मॉनसून सत्र शुरू होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को बताया कि, "जीएसटी के साथ मॉनसून सत्र नई सुगंध और नई उमंग से भरा रहेगा। इस बार हम 15 अगस्त को आजादी की 70 साल की यात्रा पूरी कर रहे हैं और भारत छोड़ो आंदोलन के भी 75 साल पूरे हो रहे है साथ ही साथ राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति का चुनाव भी इसी सत्र में होना है।" जीएसटी को सफल बताते मोदी ने कहा कि, "जब देश के सभी राजनीतिक दल और सरकारें सिर्फ राष्ट्रहित के तराजू पर तौलकर फैसला करेगी, तो राष्ट्रहित में इससे ज्यादा महत्वपूर्ण कार्य कोई दूसरा नहीं होगा। यह बात जीएसटी के मुद्दे पर स्पष्ट हो चुकी है।" 

इस बीच मोदी ने जीएसटी का एक नया मतलब भी बताया, उन्होंने कहा, 'गोइंग स्ट्रांग टूगेदर' मतलब एक साथ काम करने का दूसरा नाम है जीएसटी। पीएम मोदी ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि, "मैं सत्र की शुरुआत में देश के उन किसानों को नमन करता हूँ, जो इस मौसम में भी देश की खाद्य सुरक्षा का इंतजाम कठोर मेहनत और साधना से करते हैं।" 


अगली प्रमुख खबरे

Video's

Submit Your News (Be a Reporter)